श्रुति

उम्र :

26  

राशि :

कुम्भ राशि  

में जानती हूँ :

हिंदी  English  
मेरा निजी ब्लॉग (15.08.2018) , मेरे आज के ख्याल :
Baatein karke rula na dijiyega… U chup rehke saza na dijiyega… Na de sake Khushi,to Gam hi sahi… Par DOST bana ke uhi bhula na dijiyega …main apke call ka intzar kar rhi hu..

में ऑनलाइन होउंगी: kal dopahar 4 bje...

मेरे बारे में :

यह मेरे लिए थोडा मुश्किल सवाल हुआ क्यूंकि ऐसा सवाल मेरे सामने आज तक नहीं आया! पर एक बात तो पक्की है की मैं कोई बेवकूफ नहीं हूँ | मुझे घूमना फिरना और शिविर – स्थल पर अपने दोस्तों के साथ मज़े करना बहुत पसंद है जहाँ चांदिनी रात में टीमटिमाते तारों को गिनना | यह बात मुझे कोई डरपोक नहीं बनाती बल्कि मैं खेल कूद जैसे वालीबाल और बैडमिंटन से भी लगाव रखती हूँ जिन्हें मैं किसी शौकिया कॉलेज टीम के साथ नहीं बल्कि पड़ोस वाले अपार्टमेंट के लड़के के साथ खेलती हूँ | मेरे दोस्त मुझे घरेलु लड़की की तरह मानते हैं और वैसे भी केवल मुझे ही अपने आपको आंकने का हक नहीं है | हैं ना .! ! इसके बाद भी मुझे कहीं लगता है की संकोचशील हूँ | मुझे घूमना बहुत पसंद है, मुझे कभी–कभी लगता है की मैं एक बहुभाषिक ग्रंथ हूँ और मेरे हर सफर पर मेरे दिल में मेरे दिल को बहलाने के कई ख्वाब जो भी जो होते हैं |

बस एक छोटी कहानी

  अच्छा, क्या मैं अब आगे बढूँ? मैं अपनी सोच में थोड़ी नए ज़माने की हूँ और मेरे शौक काफी कन्यासुलभ हैं | अब जब मेरी खेल-कूद में भी काफी रूचि है तो इसी वजह से मुझे ऐसा तन मिल गया है जिसपर मुझे अच्छी-खासी टिप्पणियाँ मिल जाती हैं | मुझे मर्दों के साथ समय बिताना बहुत पसंद हैं और उनकी साथ लंबी चलने वाली बातें | आप मेरे साथ सच में पूरी तरह से खुल सकते हैं | मुझे सवाल पूछना और खुद से पूछे जाने वाले सवाल साथ ही सभी अपनी सभी बातें बांटना पसंद है जो किसी हद मुड खराब ना करें | तो आईये, मिलिए मुझसे |

जिससे मैं खुश होती हूँ :

मुझे अपने से छोटे उम्र के मर्दों के साथ छेड़छाड़ पसंद है |

जिससे मैं नाखुश होती हूँ :

जब कोई मुझे नज़रंदाज़ करता है |

खाली समय में :

किशोर कुमार के यादगार गाने सुनना |

मेरे पसंद की बात :

ज़्यादातर खेलखुद की बातें और कहीं ना कहीं उत्तेजक भी |

ग्राहक प्रमाण पत्र:

सुमित
लड़की है या पटाका . . ! ! इससे बात करना मानो जन्नत की सैर करना | यह तो बस आपके दो शब्द सुन की आपके मन की बात पहचान लेती है |

राशिद

पंकज
श्रुति तुम तो मजेदार हो | मैं तो तुम्हारे लिए तो मैं रोज़ रोज़ हाज़िर हो जाऊँगा | श्रुति, अब मेरी इस खामोश जिंदगी में मेरे सबसे करीब है बस श्रुति |


सब लड़कियों का होम पेज